Model Answers for UPSC Mains → GSM3-2019/Q11: Hazard Zonation Mapping for Landslide Disaster Preparedness in हिंदी & English (15m, 250 words)

SubscribeMains-Answer-Writing5 Comments

model answers for the Environmental Geography Questions asked in the latest UPSC IAS/IPS civil services Mains GS Paper-1 2019
  1. QP-GSM3-2019- Hazard Zonation for Disaster Preparedness
    1. Related questions in the past
  2. Introduction to Landslide & Hazard Zonation
    1. Body1 → Landslide → How to map the zones?
    2. Body2 → Landslide → How to zoning can help?
  3. Conclusion: Yes hazard zonation can help
  4. Mistakes hazard zonation Answer Writing
  5. Model Answer in Hindi
    1. Introduction: परिचय- भूस्खलन तथा आपदा अनुक्षेत्र मानचित्रण की व्याख्याएँ
    2. Body1 : भूस्खलन के आपदा अनुक्षेत्र मानचित्रण किन क्षेत्रों को दर्शाया जाए?
    3. Body2: भूस्खलन के आपदा अनुक्षेत्र मानचित्रण कैसे मदद कर सकता है?
    4. Conclusion (निष्कर्ष / उपसंहार)

QP-GSM3-2019- Hazard Zonation for Disaster Preparedness

  • Disaster preparedness is the first step in any disaster management process. Explain how hazard zonation mapping will help in disaster mitigation in the case of landslides.
  • (किसी भी आपदा प्रबंधन प्रक्रम में आपदा तैयारी पहला कदम होता है | भुस्खलनों के मामले में, स्पष्ट कीजिए की संकट अनुक्षेत्र मानचित्रण किस प्रकार आपदा अल्पीकरण में मदद करेगा |)
  • Answer in not more than 250 words. Maximum marks 15.
  • Asked in UPSC Civil Services IAS/IPS Mains Exam General Studies Paper3 (GSM3)-2019. This exam was conducted in 2019, September.

Related questions in the past

  • Landslide as a disaster has been a recurring topic in the GS Mains paper-1. Although, it makes first time entry in the paper 3.
  • GSM1/2016: “The Himalayas are highly prone to landslides.” Discuss the causes and suggest suitable measures of mitigation.
  • GSM1/2013: Bring out the causes for more frequent landslides in the Himalayas than in Western Ghats

UPSC Mains Model Answer Writing Framework for hazard zonation mapping for landslides

Introduction to Landslide & Hazard Zonation

  • (Definition of Landslide) Sudden mass movement of soil is called landslide. Landslides occur in hill areas, due to instability of land mass due to loose soil, excessive water/moisture.
  • Gravity acts on such an unstable landmass and causes the large chunks of surface materials such as soil and rocks slide down rapidly.
  • (Definition of Hazard zonation) refers to “the division of the land in homogeneous areas and their ranking according to the degrees of potential hazard caused by a disaster.”
  • It is always difficult to predict the occurrence and behaviour of a landslide.
  • However, on the basis of past experiences with the factors like geology, slope, land-use, vegetation cover and human activities, we can divide landslide prone areas in the following zones:

Body1 → Landslide → How to map the zones?

  • Areas that experience frequent ground-shaking due to earthquakes
  • Areas of intense human activities such as construction of roads, dams, etc. are
  • High rainfall regions with steep slopes
  • Himalayas and Andaman and Nicobar, in the Western Ghats and Nilgiris
  • Further, we can prepare Landslide hazard zonation maps for individual districts / roads / routes in these areas using past occurrence data, GIS / remote sensing technology and aerial photographs.
  • ISRO has prepared such maps for pilgrim routes in Himachal Pradesh, Uttarakhand, Meghalaya.

Body2 → Landslide → How to zoning can help?

Such information helps the decision makers for better planning and precautionary measures in these areas e.g.

  • Diverting the vehicles / pilgrims and putting a halt on Mining activities during the rainy season.
  • They can also keep the National Disaster Response Force (NDRF) and SDRF personnel on stand by in these areas.
  • They can ban construction of new roads, dams and hotels.
  • Limiting agriculture to valleys and areas with moderate slopes.
  • Encourage terrace farming instead of Jhumming.
  • Large-scale afforestation programmes and construction of bunds to reduce the flow of water.

Conclusion: Yes hazard zonation can help

  • While landslides cause relatively small and localised damage, but the resultant destruction of road, railway, communication and electricity lines disconnects the area from the rest of the world.
  • Thus it causes long-term negative impact on economic growth and human development.
  • Therefore, landslide preparedness through hazard zonation mapping should be given priority attention in such areas.

Mistakes hazard zonation Answer Writing

  • Keyword is ‘Hazard Zonation Mapping’: so, without addressing that, only doing Bol Bachchan Hawabaazi about ‘landslide disaster preparedness in generic terms like We have to stop the mining activities and unplanned urbanization. = low marks.
  • Type: Fact based theory question.
  • Difficulty Level: Medium. While zones ‘in terms of which states are more vulnerable’ is given in NCERT Class11 India : Physical Environment Ch7. Natural Hazards And Disasters. But here the question is in context of  zones in resolution of 30-50 meters satellite maps. पूरे भारत का नक्शा बनाकर नहीं देना है.
  • Expected Score: 6/> out of 15.

Model Answer in Hindi

Q. किसी भी आपदा प्रबंधन प्रक्रम में आपदा तैयारी पहला कदम होता है | भुस्खलनों के मामले में, स्पष्ट कीजिए की संकट अनुक्षेत्र मानचित्रण किस प्रकार आपदा अल्पीकरण में मदद करेगा |

Introduction: परिचय- भूस्खलन तथा आपदा अनुक्षेत्र मानचित्रण की व्याख्याएँ

  • मिट्टी के एकाएक प्रतिस्थापन को भूस्खलन कहा जाता है। भुरभुरी मिट्टी, जल की अधिकता / नमी एवं भूमि की अस्थिरता के कारण पहाड़ी क्षेत्रों में भूस्खलन होते हैं। गुरुत्वाकर्षण इस प्रकार के अस्थिर भूमिखण्ड पर कार्य करता है एवं सतह के बड़े हिस्से जैसे मिट्टी और चट्टानों के तेजी से नीचे गिरने का कारण बनता है।
  • आपदा अनुक्षेत्र मानचित्रण का अर्थ है “सजातीय क्षेत्रों में भूमि का विभाजन एवं एक आपदा के कारण संभावित खतरे की प्रत्याशा के अनुसार उनकी रैंकिंग।”
  • भूस्खलन की घटना और उसके व्यवहार की भविष्यवाणी करना दुष्कर है। यद्यपि भूविज्ञान, ढालू भूमि,भूमि-उपयोग, वनस्पति आच्छादित क्षेत्र और मानव गतिविधियों जैसे कारकों के साथ पिछले अनुभवों के आधार पर, हम निम्नलिखित आचालों में भूस्खलन प्रवण क्षेत्रों को विभाजित कर सकते हैं:

Body1 : भूस्खलन के आपदा अनुक्षेत्र मानचित्रण किन क्षेत्रों को दर्शाया जाए?

  • ऐसे क्षेत्र जो भूकंप के कारण बार-बार प्रभावित होते हैं |
  • मानवीय गतिविधियों के कारण बुरी तरह कुप्रभावित क्षेत्र |  जैसे – सड़क, बांध, आदि का निर्माण |
  • तीव्र ढलान वाले उच्च वर्षा वाले क्षेत्र |
  • पश्चिमी घाट, नीलगिरी में हिमालय एवं अंडमान और निकोबार |
  • इसके अतिरिक्त हम भूस्खलन बाहुल्य क्षेत्र जीआईएस / रिमोट सेंसिंग तकनीक और हवाई छायाचित्रों का उपयोग करके इन क्षेत्रों में व्यक्तिगत जिलों / सड़कों / मार्गों के लिए भूस्खलन बाहुल्य क्षेत्रों के नक्शे तैयार कर सकते हैं।
  • इसरो ने हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, मेघालय में तीर्थ मार्गों के लिए ऐसे नक्शे तैयार किए हैं।

Body2: भूस्खलन के आपदा अनुक्षेत्र मानचित्रण कैसे मदद कर सकता है?

  • ऐसी जानकारी इन क्षेत्रों में बेहतर नियोजन और सावधानी पूर्वक लिए गए निर्णयों हेतु निर्माताओं की मदद करती है |
  • उदाहरण – बारिश के मौसम में वाहनों / तीर्थयात्रियों को रोकना और खनन गतिविधियों पर रोक लगाना।
  • वे इन क्षेत्रों में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ कर्मियों की निगरानी पर भी रख सकते हैं।
  • वे नई सड़कों, बांधों और होटलों के निर्माण पर प्रतिबंध भी लगा सकते हैं।
  • कृषि को घाटियों और मध्यम ढलानों वाले क्षेत्रों तक सीमित करना। झूमिंग कृषि के बजाय छत की खेती को प्रोत्साहित करें।
  • पानी के प्रवाह को कम करने के लिए बड़े पैमाने पर वनीकरण कार्यक्रम और मेड़ो/बंड का निर्माण।

Conclusion (निष्कर्ष / उपसंहार)

  • हालांकि भूस्खलन अपेक्षाकृत छोटे और स्थानीय नुकसान का कारण बनता है,
  • लेकिन सड़क, रेलवे, संचार और बिजली लाइनों में हुई क्षति के परिणामस्वरुप दुनिया के बाकी हिस्सों से क्षेत्र काट दिया जाता है।
  • जिसके कारण आर्थिक विकास और मानव विकास पर दीर्घकालिक नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
  • अत: आपदा क्षेत्रों को मानचित्रण के माध्यम से भूस्खलन की तैयारी हेतु ऐसे क्षेत्रों में प्राथमिकता के आधार पर ध्यान दिया जाना चाहिए |

Visit Mrunal.org/Mains for more on the Art of Answer-Writing for UPSC Civil Services IAS/IPS Mains Exam General Studies Question Papers!

advertizement shankarias coaching

Mrunal recommends

5 Comments on “Model Answers for UPSC Mains → GSM3-2019/Q11: Hazard Zonation Mapping for Landslide Disaster Preparedness in हिंदी & English (15m, 250 words)”

  1. sir aptitude par analysis kijiye

  2. Good narration sir. Land sliding is a big problem in the Himalayan and Western Ghats areas. In the recent flood, Kerala faced land sliding in the hilly areas. Kavalappara disaster during the Kerala flood was a major landslide south India faced recently.

  3. I need model papers for IAS KAS EXAM’S

  4. yes sir csat aptitude par ek jabardast analysis dijiye

    – apka ek garib vidyarthi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *