[Model Answer] UPSC GSM3-2018/Q12: How is Protectionism & Currency Manipulation affecting Indian Economy?

SubscribeMains-Answer-Writing11 Comments

Neostencil IAS Courses
  1. Question in UPSC Mains GSM3-2018
  2. Introduction (Definition then give origin)
  3. Body#1: Protectionism & India
  4. Body#2: Currency Manipulation & India
  5. Conclusion (Finding)
  6. Pitfalls/Mistakes
  7. Model answer in Hindi

Question in UPSC Mains GSM3-2018

Q12. How would the recent phenomenon of protectionism and currency manipulations in world trade affect macroeconomic stability of India? (Asked in 250 words, 15 marks, GSM3-2018)

विश्व व्यापार में संरक्षणवाद और मुद्रा चालबाजियों / मुद्रा जोड़-तोड़ की हाल की परिघटनाए भारत की समष्टि-आर्थिक स्थिरता को किस प्रकार से प्रभावित करेगी?

Introduction (Definition then give origin)

  • Protectionism means the use of tariff and non tariff barriers to protect the local industry against foreign competition.
  • Currency Manipulation occurs when a central bank keeps buying dollars to create artificial scarcity of dollars in the forex markets thereby causing weakening of the local currency to boost the country’s exports.
  • In 201819, the global economy witnessed a spurt in both of these phenomenons. The resultant impact on India has been as following:

Body#1: Protectionism & India

Sequence of Events:

  • 2018: US President Donald Trump announced 25% tariff on imported steel, and aluminium & other commodities from China, India and other nations. 2019: He removed India from Generalized System of Preferences (GSP) list, citing India has imposed heavy import duties on Harley Davidson bikes and other American exports.
  • China retaliated by hiking tariff on imported American soybean & other food products, chemicals, medical equipment & vehicles.
  • India retaliated by hiking tariff on imported American agriculture commodities like apples and almonds.
  • Later, European Union and other nations too joined the fray by hiking the duties imported items.

Protectionism Impact on India:

  1. In the successive monetary policies in 2018-19, RBI has observed that protectionism poses challenge to India’s growth rate, because it affects the demand of Indian exports, especially in the textile, pharmaceutical, gems-jewellery and service sector. It has also affected the employment generation capacity of the sectors.
  2. GSP-removal will have minimal impact on Indian exports, because the goods and services which India exports in great volume were not in the GSP-list in the first place.
  3. Chinese tariffs on USA has created opportunities for India to export its soyabean, cars, medical equipment to China. Commerce Ministry has recorded growth in over 300+ Indian exports including vulcanized rubber, paper, copper wires, electrodes, natural honey and pipes to China.
  4. Similarly, USA’s 25% import duty on Chinese seafood has made American consumers shift to Indian frozen shrimps which don’t attract such large duties in USA. This has positively boosted India’s seafood exports.
  5. With the fall in (overall) exports of India, there has been a glut the supply of commodities in the domestic market, resulting into inflation levels falling below 3%. According to Phillips curve, there is an inverse relationship between inflation and unemployment. This could pose a challenge to our economy in the days ahead.

Mrunal Comments

  • Do not excessively drag the arguments towards what actions have been taken to remedy the negative impacts. E.g. RBI has been cutting down Repo rates in 2019 to fight the deflationary trend true but that’s not asked here.
  • I’ve given the sequence only for illustration and understanding for the readers. In real exam it’s not required in the given word limit, except GSP.

Body#2: Currency Manipulation & India

  • People’s Bank of China has allowed the Yuan to depreciate to mitigate the effect of tariffs imposed by the US, so their Chinese products can appear cheap to foreigners even after heavy taxes. South Korea too is allegedly engaged in similar strategy.
  • But, unlike these nations’ central banks, RBI doesn’t manipulate the currency exchange rate. The net effect after the currency speculators’ buying and selling is:
    • US Dollar strengthened against all Asian currencies including Indian Rupee.
    • Indian Rupee strengthened against Chinese Yuan and Korean Won.

Currency Manipulation Impact on India

  1. In theory, weakening of Indian rupee is supposed to help the Indian exports by boosting demand of (cheaper) Indian products abroad, But this positive effect is offset due to
    1. Ongoing protectionism that harms our exports to the USA, EU and China.
    2. Rupee is still stronger than other giant Asian currencies, so, African and Latin American consumers still prefer Chinese and Korean products.
  2. Weaker Chinese and Korean currency are making their products cheaper in Indian market, thus harming our domestic producers.
  3. OPEC and Russia have engaged in a deal to cut oil production, so the crude oil prices are already rising and harming India’s current account deficit (CAD) and fuel inflation. Weakening of Indian rupee is further aggravating this problem by making crude oil import more expensive than before.
  4. With the falling of Indian rupee against dollar, our CAD has begun to rise. To counter this effect, Government of India hiked the import duty on diamonds to reduce our imports. This has resulted into companies shifting the diamond recutting and redesigning work to China and Thailand. According to Gem & Jewellery Export Promotion Council, this may result into loss of 1 lakh jobs in India. Such large scale unemployment, will harm the household demand, consumption and consequently the growth rate of India.
  5. 2018 saw the largest ever outflow of Foreign Institutional Investors (FIIs) from  Indian capital markets. Because of the ongoing twin balance sheet problem, banks are electron to land large amount to the corporate hours. Thriving capital market is therefore important for Industrial expansion. Flight of FII, therefore, affects India’s growth potential.
  6. RBI has tried to counter the falling of rupee by raising the ceiling on External Commercial Borrowings (ECB) to encourage the flow of Dollars towards India. But, in the future, if the rupee falls further, there could be economic crisis during repayment of these loans.

Mrunal Comments

  • Observe the full forms written for CAD, FII, ECB because they are mentioned for the first time in the answer.
  • Do not excessively drag the arguments towards how RBI / Government tried to counter the Depreciation of the rupee against dollar,  unless you can connect it to how it will impact the macroeconomic stability of India.
  • Anyways these many points are more than sufficient because in real exam you will not be able to recall all of them so automatically it’ll compress down to 250 words.
  • Since the question requires you to explain how A and B will affect India, so the ‘conclusion’ has to be of ‘finding’ type:

Conclusion (Finding)

From the aforementioned analysis it is evident that:

  1. Protectionism has a mixed impact on Indian macroeconomic stability because while helped boosting Indian exports in some sectors (seafood & soybean), it has harmed the other sectors.
  2. Whereas currency manipulation has negative impact on Indian economy.
  3. Protectionism will only hurt the US economy & Chinese economy in the long run. So, after their initially machismo, both President Trump & President Xi have softened their stand, and are trying to negotiate a way out of the present conundrum. Hopefully, it will undo the negative impact on Indian economy in the upcoming months.

 Pitfalls/Mistakes

  1. It is better to end the conclusion in a hopeful and optimistic fashion. There is no need to become a doomsayer that “it is going to greatly harm Indian economy in the upcoming days.”- That task is reserved for theHindu columnists, and UPSC is not conducting recruitment exam for that post.
  2. If you had unlimited time and resources, you can study beyond just India-China-America permutations, But since you do not have it, so sufficient to confine your answer with these three players. Besides, even if you knew some other lengthy arguments involving how X effect to Canada leads to Y effect on EU leading to Z effect on India-  there is not enough time and space available to illustrate all those points in real exam.
  3. In the mains exam you are not required to write the best answer, you simply have to write less bad dancer compared to others.
  4. Since the question is asking you to connect protectionism and currency manipulation with macroeconomic stability, so it is therefore necessary to throw keywords like GDP, Growth Rate, Household Consumption, Inflation, Demand, Job Creation, Industrial Expansion,  Current Account Deficit etc. to enrich your answer. Simply writing “X is helping Indian exports and Y is harming Indian exports” is not sufficient.

Model answer in Hindi

प्रस्तावना

(परिभाषा एवं  इसके बाद उत्पत्ति का उल्लेख करें )-

  • संरक्षणवाद का तात्पर्य घरेलू उद्योगों को विदेशी उत्पादों से मिलने वाली कड़ी प्रतिस्पर्धा से बचाने हेतु प्रशुल्क (टैरिफ) एवं गैरप्रशुल्क का प्रयोग करना है।
  • मुद्रा चालबाजियों / मुद्रा जोड़तोड़ के लिए  केंद्रीय बैंक द्वारा डॉलर खरीदे जाते हैं एवं मुद्रा बाजार में डॉलर की आभासी कमी की परिस्थिति को उत्पन्न किया जाता है। जिसके फलस्वरूप घरेलू मुद्रा कमजोर कर देश के निर्यात में बढ़ोत्तरी की जाती  है।

वर्ष 2018-19 में वैश्विक अर्थव्यवस्था, उपरोक्त दोनों परिस्थितियों की प्रत्यक्षदर्शी रही  है ।इसका परिणाम भारत की अर्थव्यवस्था पर निम्न प्रकार से हुआ है –

संरक्षणवाद एवं भारत

  • 2018-19 की उत्तरोत्तर मौद्रिक नीतियों में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा यह देखा गया है की संरक्षणवाद भारतीय विकास दर  को चुनौती दे रहा है क्योंकि यह विशेषकर वस्त्र,औषध, रत्न-आभूषण एवं सेवा क्षेत्र में भारतीय निर्यात की मांग को प्रभावित करता है। अत: रोजगार सृजन करने की क्षमता रखने वालों उद्योग प्रभावित हुए हैं।
  • अमेरिका द्वारा भारत को सामान्य वरीयता तंत्र की सूची से हटा दिया गया है लेकिन इसका प्रभाव भारतीय निर्यात में बहुत कम होगा , क्योंकि जो वस्तु एवं सेवाएं भारतीय निर्यात में सापेक्षिक रूप से अधिक मात्रा में है वे सामान्य वरीयता तंत्र की सूची में वैसे भी सम्मिलित नहीं थी।
  • चीन द्वारा अमेरिका  पर प्रशुल्क लगाए जाने पर भारत के सोयाबीन ,कार ,चिकित्सीय  उपकरणों को चीन में निर्यात करने का अवसर प्राप्त हुआ। वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार  भारत ने वल्कनित रबड़, कागज, तांबे के तार, इलेक्ट्रोड, प्राकृतिक शहद एवं पाइप जैसे  300 से अधिक उत्पादों के निर्यात में बढ़ोत्तरी दर्ज की है |
  • इसी प्रकार अमेरिका द्वारा चीन के समुद्री खाद्य पदार्थों पर 25% का आयात शुल्क लगाया गया,  जिस कारण अमेरिकी उपभोक्ता भारतीय प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों की ओर आकर्षित हुए हैं।  भारतीय प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों पर अमेरिका द्वारा अधिक आयात शुल्क नहीं लगाया गया जिससे भारत के समुद्री खाद्य पदार्थों का निर्यात सकरात्मक रूप से बढ़ा है।
  • समग्र रूप से भारत के निर्यात में गिरावट होने के कारण घरेलू बाजार में उत्पादों की बाढ़ सी आ गई है जिसके फलस्वरूप मुद्रास्फीति की दर 3% के नीचे चली गई। फिलिप-वक्र के अनुसार मुद्रास्फीति, बेरोजगारी के व्युत्क्रमानुपाती है। अतः अपस्फीति की प्रवृत्ति के फलस्वरुप भारत की रोजगार सृजन एवं सकल घरेलू उत्पाद की दर  कुप्रभावित हो सकती है।

मुद्रा हेर-फेर एवं भारत

पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना द्वारा यूनान का अवमूल्यन किया गया है जिससे अमेरिका द्वारा लगाए जाने वाले प्रशुल्क(टैरिफ) की भरपाई की जा सके इसके फलस्वरूप चीन  द्वारा निर्मित उत्पाद पर अधिक कर लगाए  जाने  के बावजूद वे विदेशियों को सस्ते प्रतीत होंगे। इस प्रकार की रणनीति में दक्षिण कोरिया भी शामिल है।

लेकिन इन देशों के विपरीत भारतीय रिजर्व बैंक इस प्रकार की मुद्रा में हेर-फेर को स्थान नहीं देता है । मुद्रा का आकलन करने वालों के अनुसार मुद्रा की खरीद एवं बिक्री का कुल प्रभाव इस प्रकार से हुआ है:

  1. अमेरिकी डॉलर, भारतीय रुपए को मिलाकर  सभी एशियाई मुद्राओं के सापेक्ष मजबूत हुआ है ।
  2. भारतीय रुपया, चीन के यूआन  और कोरिया के वान  के सापेक्ष मजबूत हुआ है।

मुद्रा में हेरफेर का भारत पर प्रभाव

  1. सैद्धांतिक रूप से भारतीय रुपए के कमजोर होने से भारतीय निर्यातकों को मदद मिलेगी एवं भारतीय उत्पादों की विदेशों में मांग बढ़ेगी परंतु इस सकरात्मक पहलू का दूसरा पक्ष इसके प्रभाव को निरस्त करता  है क्योकि
    1. वर्तमान में चल रहा संरक्षणवाद अमेरिका यूरोप और चीन  में हमारे निर्यात को प्रभावित करेगा |
    2. भारतीय रुपया अन्य एशिया की  मुद्राओं की तुलना में मजबूत होगा एवं इसके फल स्वरूप अफ्रीकी व लेटिन अमेरिकी उपभोक्ता,  चीन एवं कोरिया के उत्पादों को वरीयता देंगे।
  2.  कमजोर चीन और कोरिया की मुद्रा उनके उत्पादों को भारतीय बाजार में सस्ता करेगी इसके फलस्वरूप हमारे घरेलू उत्पादको को नुकसान होगा।
  3.  पेट्रोल उत्पादक देशों का समूह ओपैक एवं रूस ने तेल के उत्पादन को कम करने हेतु एक समझौता किया है । इसके फलस्वरूप कच्चे तेल के दाम बढ़ रहे हैं एवं भारत का चालू खाता घाटा बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। भारतीय मुद्रा रुपए के  डॉलर के मुकाबले कमजोर होने से कच्चे तेल का आयात पहले की अपेक्षा और भी महंगा हो गया है जो की भारत में चालू खाता  घाटा बढ़ा रहा है।
  4. भारत सरकार द्वारा चालू खाता  घाटे को कम करने के लिए हीरों पर लगने वाले आयात शुल्क को बढ़ाया गया है। जिसके कारण आभूषण बनाने वाली कंपनियां हीरो की कटाई एवं पुनर्रचना के कार्य को चीन और थाईलैंड जैसे देशों में  विस्थापित कर रही है। रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद के अनुसार उपरोक्त कारणों  से भारत में 100000 रोजगारों का खत्म हो गए  है। इस प्रकार इतने बड़े स्तर पर बेरोजगारी भारत की घरेलू मांग खपत एवं विकास दर को कुप्रभावित कर रही है।
  5. वर्ष 2018 में देखा गया कि भारत के पूंजी बाजार से अभी तक का सर्वाधिक विदेशी संस्थागत निवेशकों का निर्गमन हुआ है। वर्तमान में चल रही दोहरे तुलन पत्र की समस्या के कारण बैंक बड़े-बड़े उद्योगों को कर्जे देने में निरुत्साहित हो गए हैं। उन्नत  पूंजी बाजार, उद्योगों के विस्तार हेतु आवश्यक है।अत:  विदेशी संस्थागत निवेशकों का निर्गमन भारत की विकास संभावनाओं को नकारात्मक  रूप से  प्रभावित कर रहा है।
  6. रुपए को अवमूल्यन से बचाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा विदेशी व्यवसायिक ऋण की उच्चतम सीमा को बढ़ा दिया गया है ताकि भारत में डॉलर का समुचित प्रवाह हो सके। लेकिन यदि भविष्य में रुपया पुनः अधिक कमजोर होता है तो ऐसी स्थिति में इन कर्ज़ों को चुकाने हेतु आर्थिक संकट की स्थिति पैदा हो जाएगी।

उपसंहार

उपरोक्त तर्कों के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि:

  1. संरक्षणवाद का मिश्रित प्रभाव भारतीय वृहत् अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा क्योंकि कुछ क्षेत्रों में (सोयाबीन एवं समुद्री खाद्य) भारतीय निर्यात को बढ़ाने हेतु उठाए गए कदमों से अन्य क्षेत्रों में इसका नुकसान भी होगा।
  2. जबकि मुद्रा हेरा फेरी से भारतीय अर्थव्यवस्था कुभावित होगी।
  3. लंबे समय में संरक्षणवाद, अमेरिका एवं चीन दोनों की अर्थव्यवस्था को प्रभावित करेगा । अतः समय व्यतीत होने पर राष्ट्रपति ट्रंप एवं राष्ट्रपति ज़ी ने अपने रुख में नरमी लाने के साथ ही वर्तमान में चल रही स्थिति पर बातचीत के माध्यम से हल निकालने का प्रयास किया है।  आशान्वित रूप से,  उपरोक्त प्रक्रिया आने वाले महीनों में भारतीय अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभाव को निरस्त करेगी।

Visit Mrunal.org/Mains for more on the Art of Answer-Writing

Mrunal recommends

11 Comments on “[Model Answer] UPSC GSM3-2018/Q12: How is Protectionism & Currency Manipulation affecting Indian Economy?”

  1. Thank you big boss.

  2. Sir am very serious for my preparation,
    I would appreciate if I will get little guidance on how I should proceed daily with my UPSC- CSE preparation.
    Thanks

    1. Be Regular .. It does not demand a very hectic study hours.. But..it demands Very Regular studies.. Newspaper is a must.. be very convinient with the syllabus… start with the basics and select the one for optional that u feel interesting ..

      1. Sir pls send link for download pdf for economy.

        1. how to download pot of geography

  3. सर आपके हिंदी में लेखन कार्य के लिए तहेदिल से धन्यवाद
    कृपया अपनी वेबसाइट skholar पर भी हिंदी शुरू करें

  4. IAS officers

  5. Sir very thankful

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *