[UFMMP] Ethics GSM4 Full Length Mains Mock Paper with Model Answers (Free) Lectures by Mrunal & Rakesh Verma Sir (Retd IAS)

SubscribeEthics5 Comments

Mrunal's Economy Course
  1. Prologue
  2. 📡Model answers / Keypoints to be discussed in FREE lecture
  3. Section-A: Theory Questions (130 Marks) Q1 to 13
  4. Section-B: Case Studies (120 marks)
    1. Q14: Witch Doctor branding child with hot-iron
    2. Q15: Locals demand jobs & free entry at Dino Museum
    3. Q16: Misogynist Movie ‘Kabir Singh’
    4. Q17: #ME-Too Guidelines
    5. Q18: IAS on Twitter
    6. Q19: Fancy Hairstyle in School

Prologue

  • Dear students, If you are done with Prelims cut-off speculation, and Answerkey debate then here is a full length mock paper for GSM4 (Ethics).
  • Maximum Marks: 250 marks
  • Time Limit: 3 hours
  • All questions are compulsory.
  • They are printed in both English and Hindi.

📡 Model answers / Keypoints to be discussed in FREE lecture

  • Model answer key points will be discussed in the free classes organised by Shri Rakesh Verma sir (Retd IAS) and Mrunal Patel.
  • This lecture series called “Unacademy Full Length Mains Mock Papers [UFMMP]”. We are starting with GSM4 Ethics.
  • Live Lecture at: Unacademy “Special Classes”, which is basically free for all to attend.
  • 📡Free registration links to attend live class

[UFMMP] Full Length Mains Mock Paper Ethics GSM4 for UPSC


Section-A: Theory Questions (130 Marks) Q1 to 13

Answer each of the following in not more than 150 words. (13Q x 10m  = 130 marks)

निम्नलिखित में से प्रत्येक का उत्तर अधिकतम 150 शब्दों में दें |

  1. “Liberty does not exist in the absence of morality.- Edmund Burke” Discuss in the context of the 21st century. (“नैतिकता के अभाव में स्वतंत्रता का अस्तित्व नहीं है” – एडमंड बर्क के इस कथन की 21 वीं सदी के संदर्भ में चर्चा करें |)
  2. “Corruption is the most infallible symptom of constitutional Liberty.” Critically examine this statement. (भ्रष्टाचार संवैधानिक स्वतंत्रता का एक सर्वाधिक  अमोघ / अभ्रांत लक्षण है| इस कथन की समालोचना करें |)
  3. Indians often demonstrate impressive capacity for self regulation of their own behaviour at home, and in religious & social gatherings. Yet they fail to observe the basic safety and courtesy behaviour in public places. Why? (भारतीय प्राय: पारिवारिक माहौल एवं धार्मिक, सामाजिक समारोहों में अपने स्वयं के व्यवहार के माध्यम से आत्मसंयम की क्षमता  का प्रभावशाली  प्रदर्शन करते हैं। फिर भी वे सार्वजनिक स्थानों पर बुनियादी सुरक्षा और शिष्टाचार का पालन करने में विफल रहते हैं। क्यों ?)
  4. “The hottest places in hell are reserved for those who, in times of great moral crisis, maintain their neutrality. – Dante”. Discuss. (“नरक में सबसे गर्म स्थान उन लोगों के लिए आरक्षित हैं, जो नैतिक संकट के समय में भी, अपनी तटस्थता बनाए रखते हैं”। – दांते के इस कथन की चर्चा करें |)
  5. “Our society is culpable in not providing value education for all and it must answer for the sins it produces, because if a soul is left in darkness, sins will be committed.- Victor Hugo” Comment.(“हमारे समाज को, सभी के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान न कर पाने की समस्या से पैदा होने वाले पापों के लिए जवाबदेह होना चाहिए, क्योंकि अगर किसी आत्मा को अंधेरे में छोड़ दिया जाये तो पाप ही किये ही जायेंगे “ – विक्टर ह्यूगो ,  टिप्पणी करें |)
  6. “The only thing that can bring you long-lasting happiness is doing something good for somebody who is incapable of doing it for themselves.” Discuss. (केवल दूसरे ऐसे व्यक्ति की भलाई हेतु किया गया कार्य आपके मन में स्थायी प्रसन्नता ला सकती है जो खुद इसे करने में असमर्थ है, चर्चा करें |)
  7. With suitable examples explain how emotional intelligence can help in handling conflicts and prejudices. (उपयुक्त उदाहरणों के माध्यम से समझाएं कि संघर्ष और पूर्वाग्रहों से निपटने में भावनात्मक बुद्धिमत्ता किस प्रकार मदद कर सकती है ?)
  8. With suitable examples explain how are attitudes formed and how can we change them? ( उपयुक्त उदाहरणों के माध्यम से समझाइए कि अभिवृत्‍ति का निर्माण किस प्रकार होता है एवं कैसे हम उसमें बदलाव ला सकते है?)
  9. Currently, Administrative Training focuses more on improving efficiency than transforming the attitudes and behaviours of civil servants. What type of training will you suggest to fill this gap? Elaborate. (वर्तमान में, प्रशासनिक प्रशिक्षण कार्यक्रम, सिविल सेवकों की अभिवृत्‍ति और व्यवहार में बदलाव की अपेक्षा कार्यक्षमता बढ़ाने की ओर अधिक केंद्रित है। इस प्रकार के अंतर को कम करने के लिए आप किस प्रकार के प्रशिक्षण का सुझाव देंगे ? विस्तारपूर्वक समझाएं ?)
  10. “Administrative values have no value unless they are valued by all stakeholders of the governance system.” Comment. (प्रशासनिक मूल्यों का कोई महत्त्व नहीं होता जबतक कि प्रशासनिक तंत्र के समस्त सहभागीयों के द्वारा उन्हें मूल्यवान नहीं माना जाता, टिप्पणी करें | )
  11. “Contracting out tasks without effective accountability mechanism can be counterproductive for the effective service delivery.” comment. (“बिना प्रभावी जवाबदेही के, कार्यों को ठेके पर दे देना, नुकसानदेह हो सकता है.” टिप्पणी करें |)
  12. “A leader is a people’s developer” -Napoleon. Which aspects of subordinates development can be positively influenced by a leader? Discuss. (नेता, एक जन विकासक होता है”- नेपोलियन | अधीनस्थ कर्मचारी-वर्ग के विकास हेतु कौन-कौन से पहलू नेता द्वारा प्रभावित किए जा सकते हैं ? चर्चा करें |)
  13. “Merit based promotion system leads to dissatisfaction of all employees except one who get the promotion, and the resulting effect is negative. Therefore seniority based promotion has the distinctive advantage of satisfying all employees in the due course of time.” Critically evaluate the system. Also suggest a suitable promotion policy for Indian Civil Services.  (‘योग्यता आधारित पदोन्नति’ प्रणाली केवल पदोन्नति पाने वाले के अतिरिक्त सभी कर्मचारियों के  असंतोष को बढाती है एवं इसका प्रभावी परिणाम नकारात्मक ही होता है। अत: ‘वरिष्ठता आधारित पदोन्नति’ में यथासमय सभी कर्मचारियों को संतुष्ट करने का विशिष्ट लाभ है”। आलोचनात्मक समीक्षा करें तथा भारतीय सिविल सेवा के लिए उपयुक्त पदोन्नति नीति का भी सुझाव दें।)

Section-B: Case Studies (120 marks)

Answer each of the following Question in not more than 250 words and 20 marks. (6Qs x 20 marks = 120 Marks) निम्नलिखित में से प्रत्येक प्रश्न  का उत्तर अधिकतम 250 शब्दों  और २० गुणों  में दीजिए|

Q14: Witch Doctor branding child with hot-iron

Jamna Lal’s daughter, Kushbu, developed breathing problems in January 2018. Like many families in villages around Bhilwara, Rajasthan, he took his daughter to Tantrik (witch doctor), who believe that burning a child’s chest with a hot piece of iron will scorch a particular nerve and cure them of certain illnesses.

But Kushbu’s condition worsened due to the infection from the burn wound. Later, she was rushed to hospital but she died. Police arrested Jamna Lal, who is now pleading to the judge that  “My ancestors have been doing this for many years. We all do it. We took my older daughter Naraya to the Tantrik when she was little and she got better and we thought Kushbu would get better too. Besides, there is no hospital in the nearby area so what else could I have done? I work as a farm labourer earning barely ₹ 150 a day, how could I afford to take my child to faraway city hospital? If you put me in jail, my whole family will suffer because I’m the sole breadwinner of my family.”

However, Public Prosecutor is arguing, “Under Juvenile Justice (Care and Protection of Children) Act, 2015, if a parent or guardian causes risk to the life of a child, he shall be punished between 3 to 10 years, depending on the severity of the crime. No leniency should be shown here because the child is dead.”

Q14:-

(i) As the Judge hearing this case, what will you do with Jamna Lal, and why?

(ii) As the Child Development Project Officer of Bhilwara district, how will you prevent such incidents in future?

प्रश्न 14. तांत्रिक द्वारा  गर्म लोहे से बच्चे को जलाना  –

जमना लाल की बेटी, खुशबू, को जनवरी 2018 में सांस लेने में तकलीफ हुई | भीलवाड़ा, राजस्थान के आसपास के गाँवों के कई परिवारों की तरह, वह भी अपनी बेटी को तांत्रिक के पास ले गए जिसका विश्वास था कि यदि लोहे के गर्म टुकड़े से बच्चे की छाती को जलाया  जाए तो एक विशेष नस झुलसेगी और सम्बंधित बीमारी से राहत मिलेगी।

लेकिन जले हुए घाव में  संक्रमण के कारण खुशबू की हालत बिगड़ गई। बाद में उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन उसकी मृत्यु  हो गई। पुलिस ने जमना लाल को गिरफ्तार किया, जो अब जज से गुहार लगा रहा है कि “मेरे पूर्वज वर्षों से ऐसा कर रहे हैं। हम सब ऐसा ही करते हैं। हमारी  बड़ी बेटी नराया जब छोटी थी तब उसे हम तांत्रिक के पास ले गए थे और वह ठीक हो गई थी  | अब हमें लगा कि खुशबू भी ठीक हो जाएगी। इसके अलावा, हमारे पास के इलाके में कोई अस्पताल नहीं है तो मैं और क्या कर सकता था? मैं एक खेतिहर मजदूर हूं, जो प्रतिदिन बमुश्किल 150 रूपये कमाता है, मैं अपने बच्चे को शहर के अस्पताल ले जाने का खर्च कैसे उठा सकता हूं? अगर आपने मुझे जेल में डाल दिया, तो इसका दंड मेरे पूरे परिवार को भुगतना होगा क्योंकि ,मेरे पूरे परिवार की जीविका केवल  मुझपर ही निर्भर है | ”

यद्यपि, लोक अभियोजक बहस कर रहा है, “किशोर न्याय (बाल संरक्षण अधिनियम, 2015)  के अन्तर्गत यदि माता-पिता या अभिभावक, बच्चे की जान को खतरा पैदा करते हैं, तो इस प्रकार के मामलों में  गंभीरता के आधार पर उनको 3 से 10 साल तक की सजा होगी। क्योंकि इस मामले में बच्चा मर चुका है अत: कोई भी नरमी नहीं दिखाई जानी चाहिए”।

प्रश्न 14:-

(i) जैसा कि न्यायाधीश इस प्रकार के मामले की सुनवाई करते है  ,आप जमना लाल के साथ क्या करेंगे, और क्यों?

(ii) भीलवाड़ा जिले के बाल विकास परियोजना अधिकारी के रूप में, आप भविष्य में ऐसी घटनाओं को किस प्रकार रोक पाएंगे?

Q15: Locals demand jobs & free entry at Dino Museum

Gujarat’s Mahisagar district has the third largest site of the dinosaur fossils in the third largest in the world. Tourism Department has setup a Dinosaur Museum here with entry fees of ‘x’ rupees. Local villagers are demanding “A) All jobs at this museum must be given to us. B) Free entry for us without any tickets. Otherwise, we’ll block the roads and prevent entry of tourists.”

Q15:-

(i) What are the pros and cons of abiding to their demands?

(ii) What decision will you take as the Secretary (IAS), Tourism Department.

प्रश्न 15 स्थानीय लोग द्वारा डिनो संग्रहालय में नौकरी और निःशुल्क प्रवेश की मांग-

गुजरात के महिसागर जिले में दुनिया के तीसरे सबसे बड़े डायनासोर जीवाश्मों का भण्डार है। पर्यटन विभाग ने यहाँ X रुपये  के प्रवेश शुल्क के साथ एक डायनासौर संग्रहालय स्थापित किया है। स्थानीय ग्रामीणों  माँग कर रहे है–

अ). इस संग्रहालय की सभी नौकरियां हमें दी जानी चाहिए।

ब) बिना किसी टिकट के हमें  नि: शुल्क प्रवेश मिले अन्यथा, हम सड़कों को अवरुद्ध करेंगे और पर्यटकों के प्रवेश को रोकेंगे। ”

 

प्रश्न 15:-

(i) उनकी मांगों को मानने के सन्दर्भ में क्या सकारात्मक एवं नकारात्मक पहलू हैं?

(ii) आप पर्यटन विभाग के सचिव (IAS) के रूप में क्या निर्णय लेंगे।

Q16: Misogynist Movie ‘Kabir Singh’

In the movie Kabir Singh, lead-actor plays the role of an alcoholic misogynist doctor. He frequently abuses his girlfriend and colleagues. In one scene, he even threatens to rape a woman at knifepoint. Script is written in such a way that every other character accepts Kabir Singh’s flaws and even forgives him, in the end, he emerges a winner.

Critics argue this type of movies create a negative influence on the youth, whereas the film maker maintains “It is my creative artistic freedom guaranteed under the constitution of India.  Censor board cleared my movie, it has earned more than ₹ 300 crores at the box-office. That means people watched and enjoyed it, I would not create supply if there was no demand for this type of movies!!”

Q16:- Do you agree with film maker’s defense? What is the way forward in the debate surrounding ‘role of movies in inculcation of values’?

प्रश्न 16- महिलाओं  के प्रति  घृणात्मक रवैया रखने चलचित्र कबीरसिंह‘-

फिल्म कबीर सिंह में, मुख्य अभिनेता एक एक शराबी  एवं महिलाओं  के प्रति  घृणात्मक रवैया रखने वाले डॉक्टर की भूमिका में है। वह प्राय: अपनी प्रेमिका एवं सहकर्मियों को गालियां देता है। एक दृश्य में, वह एक महिला को चाकू की नोक पर बलात्कार करने की धमकी भी देता है। फिल्म की स्क्रिप्ट को  इस प्रकार से लिखा गया है कि हर दूसरा किरदार कबीर सिंह की खामियों को स्वीकार करता है और उसे माफ भी कर देता है, अंतत: वह एक विजेता बनकर भी उभरता है।

आलोचकों का तर्क है कि इस प्रकार की फिल्में युवाओं पर नकारात्मक प्रभाव डालती हैं, जबकि फिल्म निर्माता का कहना है कि “भारत के संविधान के द्वारा प्रदत्त यह मेरी रचनात्मक कला की स्वतंत्रता है|  सेंसर बोर्ड ने मेरी फिल्म को मंजूरी भी दी है, इसने बॉक्स-ऑफिस पर 300 करोड़ से अधिक की कमाई भी की है । इसका मतलब है कि लोगों ने इसे देखा है और आनंद उठाया है|  इस तरह की फिल्मों की मांग नहीं होने पर मैं  इस प्रकार की फिल्मे स्वयं ही बाज़ार में उपलब्ध नहीं करवाऊंगा ”

प्रश्न 16:-  क्या आप फिल्म निर्माता के रक्षात्मक रुख से सहमत हैं ? “नैतिक मूल्यों के प्रसार में फिल्मों की भूमिका” की बहस में आगे का रास्ता क्या है ?

Q17: #ME-Too Guidelines

#MeToo is a social media movement wherein people, particularly women, publicize allegations of sex crimes committed by powerful prominent men. Many women have been empowered by the #MeToo movement to to take on powerful men such as Hollywood producer Harvey Weinstein. However, #MeToo is not free of criticism. Former Chief Justice of the Bombay High Court, Sujata Manohar observed that many women were misusing the #MeToo movement to shame men on social media and to settle personal scores. Further, a lot of women anonymously share stories about their harassers but refuse to take further legal or police action. This raises questions on the ingenuity of their claims.

Q17- As the Secretary (IAS) in Ministry of Personnel, you’re tasked to frame guidelines to deal with #Metoo complaints made in social media, against Government officials. What recommendation would you provide the Minister of Personnel? Discuss the merits and demerits of each of the recommendations. (20 marks, 250 words)

प्रश्न 17 – #ME-Too दिशा-निर्देश

#MeToo एक सोशल मीडिया आंदोलन है जिसमें लोग, विशेष रूप से महिलाएं, शक्तिशाली प्रमुख पुरुषों द्वारा किए गए यौन अपराधों के आरोपों को प्रचारित करते हैं। कई महिलाओं को #MeToo आंदोलनने सशक्त बनाया गया है, जिससे हॉलीवुड निर्माता हार्वे विंस्टीन जैसे शक्तिशाली पुरुषों से भी वे लड़ पाई है. हालाँकि, #MeToo आलोचना से मुक्त नहीं है। बॉम्बे हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश, सुजाता मनोहर ने पाया कि कई महिलाएं सोशल मीडिया पर पुरुषों को शर्मसार करने और व्यक्तिगत दुश्मनी का निपटान करने के लिए #MeToo आंदोलन का दुरुपयोग कर रही थीं।

इसके अलावा, बहुत सी महिलाएं गुमनाम रूप से अपने उत्पीड़नकर्ताओं के बारे में सोशियल मिडियामें कहानियां साझा करती हैं लेकिन (वे महिलाए) आगे कानूनी या पुलिस कार्रवाई करने से इनकार कर देती हैं। यह उनके दावों की सच्चाई पर भी सवाल उठाता है।

Q17- कार्मिक मंत्रालय में सचिव (IAS) के रूप में, आपको सरकारी अधिकारियों से खिलाफ सोशियल मिडियामें  दर्ज #Metoo शिकायतों से निपटने के लिए दिशानिर्देश तैयार करने का काम सौंपा गया है।  कार्मिक मंत्री आपको क्या सिफारिश देंगे? अपनी सिफारिशों में से प्रत्येक बिंदु के गुण और अवगुण पर चर्चा करें।

Q18: IAS on Twitter

On May 2019, Nidhi Choudhari, an IAS in Maharashtra cadre posted a tweet: “What an exceptional celebration of 150th birth anniversary year is going on… High time, we removed his face from our currency, his statues from across the world, rename institutions/roads named after him! That would be a real tribute to all of us! ThankU #Godse for 30.01.1948.”

Political parties have sought immediate suspension of the IAS officer for her derogatory tweets against Mahatma Gandhi.

In July 2019, Arpita Chaudhary, a police constable uploaded a Tiktoc video wherein she is dancing in a civilian dress inside a police station in Mehsana district of Gujarat. She has been suspended.

Q18:- In the light of these incidents, Government has initiated process to draft a new code of conduct for civil servants on social media, and sought inputs from the Public. Write your inputs.

प्रश्न 18 ट्विटर पर आई.ए.एस. अधिकारी –

मई 2019 को, महाराष्ट्र कैडर में एक IAS अधिकारी निधि चौधरी ने एक ट्वीट पोस्ट किया: “ क्या शानदार 150 वीं जयंती वर्ष का एक असाधारण समारोह  चल रहा है !!!… यह सही समय है जब हम अपनी मुद्राओं से उनका चेहरा एवं दुनिया भर से उनकी प्रतिमाओं को हटा दें । उनके नाम पर बने संस्थानों / सड़कों का नाम बदल दें ! यह हम सभी के लिए एक सच्ची श्रद्धांजलि होगी! 30.01.1948  के लिए गोडसे को धन्यवाद। ”

राजनीतिक दलों ने महात्मा गांधी के खिलाफ अपमानजनक ट्वीट के लिए आईएएस अधिकारी को तत्काल निलंबित करने की मांग की है।

जुलाई 2019 में, एक पुलिस कांस्टेबल अर्पिता चौधरी, ने एक टीकटॉक वीडियो अपलोड किया, जिसमें वह मेहसाणा जिले के पुलिस स्टेशन के अंदर एक सामान्य नागरिक वेशभूषा में नृत्य कर रही है। उसे निलंबित कर दिया गया है।

प्रश्न 18 – इन घटनाओं के प्रकाश में, सरकार ने सोशल मीडिया पर सिविल सेवकों के लिए एक नई आचार संहिता का मसौदा तैयार करने के लिए प्रक्रिया शुरू की है, और जनता से सुझाव  मांगे हैं। अपने सुझाव लिखें |

Q19: Fancy Hairstyle in School

Firdoz Qadri joined as headmaster of a highschool in Murshidabad. He observed that some students are sporting weird/fancy haircuts with hair colors and Tattoos based on their favourite movie stars and rock bands. Headmaster believes that students should focus on studies & keep simple NCC-cadet like haircuts. The weird haircuts & tattoos encourage ‘Gang-culture’, while the poor students who can’t afford such things, may suffer from an inferiority complex. However, the students have defended “It’s our Constitutional freedom of life and expression. It has no impact on our studies.”

Nonetheless, Headmaster started a movement ‘Asun Amra Samaj Gori. Bikrito Sanskriti Parihar Kori (Come let us build the society. Denounce perverted culture)’, wherein he contacts the local hairdressers and Tattoo-artists, requesting them not entertain students’ demand for such fancy things. However, hairdressers and Tattoo-artists refused saying “It’s our Constitutional freedom of trade and commerce. Besides, our professional ethics also mandate that we can’t refuse to serve a client!”  Headmaster feels dejected and unhappy, and write a letter about it to the Secretary (IAS) of the Education Department.

Q19. Analyse the case study from each stakeholder’s perspective. And finally, as the Education Secretary (IAS) of W.Bengal, how will you address this letter?

प्रश्न 19 स्कूल में फैंसी हेयरकट-

फ़िरदोज़ कादरी ने मुर्शिदाबाद के एक हाईस्कूल में हेडमास्टर के पद पर अपना कार्यभार संभाला है । उन्होंने महसूस किया  कि कुछ छात्र अपने पसंदीदा फिल्म सितारों और रॉक बैंड की तरह ही अपने बालों को रंग रहे है एवं टैटू के साथ अजीब / फैंसी हेयरकट रख रहे हैं। हेडमास्टर की राय है कि छात्रों को पढ़ाई पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए और एनसीसी-कैडेट की तरह ही साधारण बाल रखना चाहिए। अजीब बाल एवं टैटू ‘गुंडा संस्कृति’ को प्रोत्साहित करते हैं, जबकि गरीब छात्र जो इस तरह के शौकों को आर्थिक कारणों से पूरा नहीं सकते हैं, वे हीन भावना से ग्रस्त हो सकते हैं। हालांकि, छात्रों ने अपने निजी जीवन और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता  के  संवैधानिक अधिकार का उलाहना दिया है जिसका उनके पढाई पर कोई  दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है |”

फिर भी हेडमास्टर ने एक आंदोलन शुरू किया “आओ हम समाज का निर्माण करें। विकृत संस्कृति को त्यागें करें” , जिसमें वह स्थानीय हेयरड्रेसर और टैटू-कलाकारों से संपर्क करते है एवं  उनसे अनुरोध करते हैं कि वे अपनी फैंसी चीजों के लिए छात्रों की माँगे  न माने । हालांकि, हेयरड्रेसर और टैटू-कलाकारों ने यह कहते हुए उनके अनुरोध को  इनकार कर दिया कि “यह हमारे वाणिज्य एवं व्यापार की संवैधानिक स्वतंत्रता है।  इसके अतिरिक्त  हमारी पेशेवर नैतिकता भी हमें  ग्राहकों की सेवा करने से इंकार करने को मना करती हैं! ”

अंतत: हेडमास्टर खुद को अपमानित और दुखी महसूस करते है, और इसके बारे में राज्य के शिक्षा सचिव (आई. ए. एस)  को पत्र लिखते है ।

प्रश्न 19 – प्रत्येक हितधारक के दृष्टिकोण से वस्तु स्थिति का विश्लेषण करें एवं  अंत में, पश्चिम बंगाल के राज्य शिक्षा सचिव (आई. ए. एस) के रूप में, आप इस पत्र के माध्यम से प्रेषित समस्या को किस प्रकार निस्तारित करेंगे ?

Visit Mrunal.org/ethics for More material on Ethics!

Indian History Freedom Struggle Pratik Nayak

5 Comments on “[UFMMP] Ethics GSM4 Full Length Mains Mock Paper with Model Answers (Free) Lectures by Mrunal & Rakesh Verma Sir (Retd IAS)”

  1. Thank u sir!🙏

  2. sir will u conduct some classes related to mains answer writing on unacademy special series

  3. Only able attempt 120 marks paper (80 theory + 2 case studies) in 3hrs. Not hoping more than 30 marks.

  4. sir if we are unable to attend live class, will it also be available as recording later on?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *