Thought of the day

  • Although a 10 per cent correction/fall should not worry those who have been investing in stock markets for 20-25 years because they would have seen several ups and downs. But the newbies who have witnessed only bull-runs in Corona, even 1% fall could be unnerving, same true for UPSC prelims- for Babu-Shona who are 😰1] under severe stress merely by looking at a few random Sport/Science/Environment Questions. 😰2] under severe stress because of the Cut-off bragging by** comment trollers and coaching mafias**. 😰3] under severe stress because of** some random technical economy / global report comes **and they feel the need to drop everything else and start studying it.

Page 1

  • Vaccination: 21st Oct 2021- INDIA reaching the landmark of 100 crore vaccine doses. 😰Challenges ahead? 1) Vaccine hesitancy / inaccessibility: out of the 103 crore adult population: only 29 crore people completed both doses. 42 crores have taken only the first dose. So, approx. 32 crore of the total 103 crore adult population has not received a single dose so far. 2) Critics are demanding an independent commission to look into the look into the Covid vaccine deaths. 3) new and deadlier variants. Vaccine may not be able to protect 4) USFDA approved mixing Covid-19 vaccines and booster doses. Indian authorities yet to take a call. 5) excess production capacities and manpower recruited. After the entire population is vaccinated what to do with them- problems of bank NPA & unemployment? (यद्यपि/हालाँकि सौ करोड़ कोरोना टिके लगाए तो गए: आगे की चुनौतियां: 😰इसका मतलब ये नहीं सौ करोड़ व्यक्तियों को टिके लगाये गई है। अभी भी क़रीब ३२ करोड़ वस्यको के बाक़ी है. 😰टीकाकरण के दौरान जिनकी मृत्यु हुई उनकी निष्पक्ष जाँच की माँग। 😰वायरस के नए विकृत स्वरूप के सामने टीकाकरण शायद बेअसर रहे। 😰अमेरिका में अलग अलग कंपनियों के इन टीकों को मिश्रित किया जा सकता है, एक दो खुराक के बाद तीसरा बूस्टर डोज देने की भी अनुमति है- भारत ने अभी इस पर निर्णय नहीं लिया। 😰फार्मास्युटिकल कंपनियों ने जल्द से जल्द ज़्यादा से ज़्यादा टिकी बनवाने के लिए ढेर सारी मशीनरी ख़रीदी है और लोगों को नौकरी पर रखा है लेकिन जब ये लक्ष्यअंक हासिल हो जाएंगे तो फिर उन मशीनों का और उन लोगों का क्या उपयोग रहेगा बैंकों में अनर्जक परिसंपत्तियां और बेरोज़गारी का डर)
  • right to movement: Noida single mother filed PIL in SC that her right to movement was affected because of the farmers protest/barricades. SC observed that it was not against people’s right to protest, even on matters that are sub judice, but such protesters cannot block public roads indefinitely. Supreme Court ordered the farmers to respond within three weeks. (भले ही कोई मामला अदालत में चल रहा हूँ फिर भी लोग विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं वो उनका अधिकार है लेकिन ऐसा विरोध प्रदर्शन अन्य लोगों के यातायात के अधिकार पर आक्रमण नहीं करना चाहिए।)

Page 9

  • ⚾️📻⚾️🎓✋Journalist GAURI LANKESH MURDER (2017) SC restrored Karnataka Control of Organised Crimes Act (KCOCA), 2000 against an accused

    Page 10

  • Indian protectionism: 1] average taxes on the imported items increased from 9% (2011) to 14% (2014) 2] India is imposing anti-dumping duties on more and more number of imported products 3] General Agreements on Tariffs and Trade (GATT) allows the nations to impose a ban on silver and gold import/exports (presumably to address the problems in balance of trade/CAD). Nations can also put restrictions on import of any good/service to prevent the damage to local industry. But, India recently amended Customs Act of 1962, giving the government the power to ban the import or export of any good (not just gold and silver) if it is necessary to prevent injury to the “economy”. This is against the spirit of GATT. 😰3) PM Modi’s call to be “vocal for local” (giving preference to domestically made goods) is creating an ecosystem where imports are looked at with disdain. (भारत और संरक्षणवाद: पिछले कुछ वर्षों में आयातित सामान पर टेक्ष/कराधान को बहु बढ़ाया गया है। 😰जीएटीटी समझौते के अनुसार किसी देश की स्थानिक उद्योग को बचाने के लिए आयातित सामान पर बाधाएँ लगाए जा सकते हैं। सोने चाँदी के आयात पर संपूर्ण प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं। लेकिन भारत ने सीमा शुल्क क़ानून में कुछ ऐसे सुधार किए की किसी भी चीज़ पर सम्पूर्ण प्रतिबंध लगाया जा सकता है भारत के अर्थतंत्र को नुक़सान होने से रोकने के लिए। ऐसा क़ानूनी संशोधन GATT समझौते के मूल सिद्धांतों के विपरीत है। 😰 प्रधानमंत्री के स्थानिक सामान ख़रीदने के आग्रह के चलते आयातित सामान को घृणा की नज़र से देखा जाता है।)

Page 11

  • Self-study Column for CSAT Paper2: Gurnah and the sea of stories. It is highlighting the themes of author Abdulrazak Gurnah, the Britain-based Tanzanian author who received the 2021 Nobel Prize in literature.

Page 12

  • GSM4/Ethics: KARNATAKA BJP MP Hegde wrote this letter to Ceat Tyre Company. “ your recent advertisement shows actor Aamir Khan advising people against bursting firecrackers on the streets. Yes, this ad is giving a very good message. Your concern for public issues needs applause. In this regard, I request you to address one more problem faced by people on roads, i.e., blocking roads in the name of Namaz on Fridays and other important festive days by Muslims.” 1] As the CEO of the company how will you address this letter? 2] suppose your PR Manager advises you that a company should not engage in preaching civic behaviour in the presently chat atmosphere of social media, better to remove the ad and in future avoid social messaging through ads. Will you (CEO) agree? 3] suppose this advertisement was published in newspapers and then MP wrote a letter to Press Council of India stating that Ceat would be required to publish another advertisement about Namaz, then as the chairman of press Council of India how will you address this? (पहिया/टायर कंपनी के एक विज्ञापन में आमिर ख़ान ने कहा कि सड़कों पर पटाखे न जलाएं! सांसद ने कंपनी को विरोध में पत्र लिखा है कि हालाँकि सड़क सुरक्षा के लिए पटाखे न जलाएं जाए ऐसा आपका विज्ञापन सराहनीय है किन्तु आप ऐसा भी विज्ञापन क्यों नहीं बना रहे कि मुसलमान नमाज़ पढ़ने के नाम पर सड़कों पर यातायात में बाधा न खड़ी करें? 🤔१) कंपनी के CEO के रूप में आप इस पत्र को कैसे संबोधित करेंगे 🤔२) मान लीजिए कम्पनी का जन संबंध मैनेजर यह सलाह देता है कि कंपनी ने ऐसे सामाजिक उपदेशों से बचना चाहिए क्योंकि सोशल मीडिया में हंगामा हो सकता है, आमिर ख़ान का विज्ञापन हटाकर हमने सिर्फ़ अपनी कंपनी के प्रोडक्ट के बारे में जानकारी देनी चाहिए। क्या कंपनी के CEO के रूप में आप इस बात से सहमत होंगे? 🤔३) यदि इस प्रकार का विज्ञापन अख़बार पत्रों में दिया जाए और सांसद द्वारा प्रेस काउंसिल ऑफ़ इंडिया के अध्यक्ष को फ़रियाद की जाए तो आप अध्यक्ष के रूप में उसे कैसे संबोधित करेंगे)
    (img)
  • GSM4: Religion, Superstition and Morality: Bihar earthquake of 1934: Gandhi “Droughts, floods, earthquakes and the like, though they seem to have only physical origins, are, for me, somehow connected with man’s morals. Therefore, I feel that the earthquake is a divine chastisement for the great sin we have committed against those whom we describe as Harijans”. Tagore took offence, “I find it difficult to believe it. It is all the more unfortunate, because this kind of unscientific view of things is too readily accepted by a large section of our countrymen. We should not associate ethical principles with cosmic phenomena. Our own sins and errors, however enormous, have not enough force to drag down the structure of creation to ruins.” According to you, 1) whose view is correct? And why? (2) Gandhiji wanted people to stop the practice of untouchability. So even if he’s taking a scientifically debatable argument about earthquakes…. is it not justified because his ‘end goal’ is pure? (19,34 में बिहार में आए भूकंप के बारे में गांधी जी ने ये लिखा है कि अकाल सूखा भूकंप ये सब इंसान की नैतिकता से उत्पन्न होते हैं मुझे लगता है कि भूकंप एक दैवीय प्रकोप है जो हरिजन समाज के ख़िलाफ़ किए गए अत्याचार की सजा के रूप में भेजा गया है। रवींद्रनाथ टैगोर को ने इसका विरोध किया, “मुझे दुख है कि इस प्रकार की अवास्तविक और अवैज्ञानिक चीज़ें गांधी जी बता रहे हैं और देश के कई लोग उसका स्वीकार भी कर रहे। चाहे हमारे अपराध और गलतियाँ कितनी ही बड़ी क्यों न हों लेकिन वो पूरी पृथ्वी को नहीं हिला सकती। हमें नैतिक सिद्धांतों को ब्रह्मांडीय घटनाओं से नहीं जोड़ना चाहिए”। 🤔१) गांधीजी और टागोर में किसकी राय आपको सही लगती है? 🤔२) गांधीजी की भूकंप और नैतिकता की बात वैज्ञानिक रूप से बहसपूर्ण हो सकती है, किन्तु उनका इरादा तो नेक था कि लोग दैवीय प्रकोप के डर से भी ग़लत कार्यों से डरे क्या उनका तरीक़ा न्यायोचित नहीं है?

Page 15

  • FATF ‘Grey List’- Mauritius removed, Pak remains.
  • ⚾️📻⚾️🎓✋Donald Trump to start a new social media network ‘TRUTH SOCIAL’ – after being banned by Facebook and Twitter.

Page 16

  • ⚾️📻⚾️🎓✋BharatNet PPP: Post objections on bid criteria, DoT to issue revised tender. Let them finalise it
  • ⚾️📻⚾️🎓✋Amazon moves SC against NCLT nod to Future Retail shareholders’. Corporate legal disputes not important until some really great exam worthy judgement comes
  • ⚾️📻⚾️🎓✋Bombay HC asks ZEEL to hold EGM as proposed by Invesco. Corporate legal disputes not important until some really great exam worthy judgement comes
  • Gati Shakti, or the national master plan for multimodal connectivity: Monitering to be done by empowered group of secretaries (EGoS) headed by headed by Cabinet Secretary
  • GM-Rice: in India cultivation of genetically modified rice is prohibited yet the Indian shipment was exported to European Union which found GM rice. EU authorities extremely sensitive about GM-rice so now calling for banning the India’s rice exports to EU! Possibilities 😰1) five years ago GM-rice trials were going on in Punjab, Andhra Pradesh, and Maharashtra. Someone may have mixed up the produce / cross pollination and cross breeding. 2) someone (Business rival enemy nation) deliberately playing mischief of mixing up GM rice to unsettle India from number#1: rice exporter position. (भारत में आनुवंशिक रूप से बदलाव किए गए चावल की खेती बाड़ी की अनुमति नहीं है। भारत से सामान्य क़िस्म का चावल यूरोपीय संघ में निर्यात किया गया था लेकिन परीक्षण से पता चला कि वो तो असल में GM था। यूरोपीय संघ के सत्ताधीश जिन्हें GM उत्पादों से डर, एतराज़, आशंका है- वे भारतीय चावल पर प्रतिबंध के बारे में सोच रहे हैं। १) भारत सरकार ने बताया कि हमारे देश में GM चावल उगाया ही नहीं जाता! शायद संभावना ये है कि पाँच वर्ष पहले जो परीक्षण हो रहे थे उसके चलते आकस्मिक रूप से कुछ पैदावार हुई हो। २) जानबूझकर व्यापारिक प्रतिस्पर्धी या दुश्मन देश ने ऐसी मिलावट की साज़िश की है ताकि भारत को चावल के नंबर वन निर्यातक के रूप में गिराया जा सके।)