Ethics integrity Aptitude related case studies from Nov-Week2 for UPSC general studies mains paper 4 (GSM4) – Scheme Awareness, Work life Balance, Cyberbullying

MrunalEthics1 Comment

😋🥣Get ready for Test-y Dinner every Monday night 8PM with Mrunal's Monday Current Affairs T20 Quiz! Available on Unacademy App!
  • Case Study: Right to display food – Ahmedabad & Rajkot- municipal corporators/councillers demanding that all street vendors selling non-vegetarian food, including fish, meat, chicken, and eggs, as well as any restaurants that have non-vegetarian food, should be made to cover the items from public display. Otherwise it offends the religious sentiments of Hindus and Jains who’re passing by on the road. On the other hand non-vegetarian food sellers defend that if we do not display our goods then how will we get customers? It is our right to business! As municipal commissioner (IAS) what will you do? (नगर पालिका के कुछ पार्षदों की माँग है कि मांसाहारी खाद्य पदार्थ बेचने वाले व्यापारियों अपनी दुकान पर अंडे मांस वग़ैरह टांगकर प्रदर्शित करते हैं जिससे सड़क से गुज़रने वाले हिन्दू और जैन समुदाय के लोगों की धार्मिक भावना आहत होती है इसलिए वो सब चीज़ें दुकानदार ने भी सार्वजनिक प्रदर्शन में नहीं रखनी चाहिए। जबकि व्यापारियों का कहना है अगर हम ऐसा टांगकर नहीं रखेंगे तो ग्राहक कैसे आएंगे? म्यूनिसिपल कमिश्नर के रूप में आप इस को कैसे संबोधित करेंगे)
  • – Ethics-role of civil service: NSA Doval Speech: quintessence of democracy does not lie in the ballot box. It lies in the laws made by the people who are elected through those ballot boxes. IAS/IPS are the ones who are the enforcers of those. Laws are not as good as they are made. Laws are as good as they are implemented and executed with efficiency, commitment, values, humane attitude. 🤔Points to Reflect: child marriage, pollution, poaching, narcotics etc. (लोकतंत्र मतदान पेटी के डिब्बे में नहीं है चुने गए प्रतिनिधियों द्वारा बनाए गए कानूनों का प्रभावी रूप से के अफ़सरों द्वारा अनुपालन करवाने में लोकतंत्र है। और कोई भी क़ानून सिर्फ़ उतना ही प्रभावी होगा जितना अफ़सर उसे प्रभावी रूप से, दृढ़ता और मानवीय रवैये से लागू करेंगे।)
  • – Ethics: work life balance. Portugal has passed a law to prohibit employers from contacting the workers after office hours. 😥 although in the Post-Corona work from home in a multinational company spread across multiple times zones it creates operational challenges. (पुर्तगाल में ऐसा क़ानून बनाती है ऑफ़िस घंटे ख़त्म होने के बाद मालिक कर्मचारी को संपर्क नहीं कर पाएगा)
  • – Ethics: 1997: State government allotted land to schedule caste poor families in a village. 2021: total 24 years passed but they could not get actual possession of the land because 1) illegal encroachment by Bahubalis. 2) Opposition by some villagers that scheduled caste colony should be located away from our general area otherwise it will depress our land prices 3) Opposition by some villagers that these beneficiaries are not actually the residents of State. They are ‘outsiders’, and trying to get land through false domicile certificates. As District magistrate (IAS) what will you do? (राज्य सरकार ने दलित समुदाय के भूमिहीन ग़रीब लोगों को 24 साल पहले ज़मीन दी थी लेकिन अभी तक उन्हें वहाँ पर वास्तविक रूप से क़ब्ज़ा नहीं मिला क्योंकि बाहुबली उन्हें क़ब्ज़ा किया है, गाँव वाले उनके दलित होने पर विरोध कर रहे हैं, और कुछ गांववाले ये कह रहे हैं कि हमें दलित परिवार को ज़मीन मिलने पर विरोध नहीं है लेकिन वास्तव में ये लोग अपनी राज्य के नहीं हैं दूसरे राज्य के हैं लेकिन फ़र्ज़ी डोमिसाइल सर्टिफ़िकेट द्वारा अपनी राज्य सरकार की सरकारी योजनाओं का लाभ ले रहे हैं इसलिए उनको ये ज़मीन नहीं मिलनी चाहिए। डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर के रूप में आपको कैसे संबोधित करेंगे
  • – Ethics: scheme awareness- A’bad Father from a lower middle-class family chastised the son for not studying and playing PUBG. Son consumed poison. Father takes him to to Jivraj Mehta Hospital bill is Rs.1.07 lakh. Father does not have that much money or health insurance. A tout approaches him ke “when you are not eligible for the Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana because you are not poor but there is a state government scheme launched for your Devipujak community. So then your son’s treatment cost will be covered by state government scheme but you will have to pay me Rs.18k cut in advance then I can get your documents processed fast and your bill will be cleared immediately otherwise it will take years! Gullible father paid the money. Scamster ran away. Similar incidents in other districts. As Health Secretary (IAS) how will you address? (बाप ने बेटे को धमकाया कि PUBG मत खेलों और पढ़ाई करो तो बेटे ने ज़हर पी लिया, अस्पताल का बिल आया १ लाख रुपये। बाप के पास पैसा नहीं और स्वास्थ्य सुरक्षा बीमा भी नहीं। एक धोखेबाज़ ने उसे कहा कि क्योंकि आप इतने ग़रीब नहीं है कि आपको प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का लाभ मिले लेकिन राज्य सरकार ने आपकी देवीपूजक समुदाय के लिए एक अलग स्वास्थबीमा योजना बनायी है उसमें आपको ये बिल का पैसा माफ़ हो जाएगा लेकिन उस योजना में आप का पंजीकरण जल्दी से करवाना है तो मुझे 18, हज़ार रुपये का कमीशन देना होगा और फिर धोखेबाज़ बाप का पैसा लेकर भाग गया। गुजरात के कई ज़िलों में ऐसे मिलते जुलते धोखा धड़ी के मामले पहले भी हुए हैं। स्वास्थ्य सचिव (आईएएस) के रूप में आप इस समस्या को कैसे संबोधित करेंगे? )
  • – Ethics: Suppose a Women’s rights activist has written following letter to the national commission for women: “A SURAT court on sentenced to life imprisonment a native migrant of Uttar Pradesh who raped a five-year-old girl. The trial in the case was completed in 31 days. Because the police completed the investigation very quickly and migrant worker did not have money /political backing to stall the case. But same level of swiftness not seen in the rape cases involving powerful men. Plz do something“ As the Chairman of national commission for women rights what will you do? (मान लीजिए एक महिला अधिकार आंदोलनकारी के राष्ट्रीय महिला आयोग के अध्यक्ष को ख़त लिखता है कि “सूरत में पाँच साल की एक बच्ची पर बलात्कार के बाद आरोपी प्रवासी मज़दूर को ३१ दिन के भीतर ही आजीवन कारावास की सज़ा हो गई है। क्योंकि पुलिस ने तेज़ी से छानबीन ख़त्म की और शायद ये प्रवासी मज़दूर के पास इतना पैसा या राजनीतिक बल नहीं था कि गैस को धीमा कर सके। लेकिन सामान्य रूप से ऐसे बलात्कार के जहाँ पर शक्तिशाली पुरुष शामिल हो तो ऐसी तेज़ी नहीं दिखाई जाती।” राष्ट्रीय महिला आयोग के अध्यक्ष के रूप में आप इसे कैसे संबोधित करेंगे)
  • – Ethics- start up tech giants and compassion for PH: USA Uber’s “wait time” fees kick in two minutes after a driver arrives. Go to physically disabled person cannot quickly enter the taxi within such short time and then they are required to pay extra fees for wait time! So, US federal government is suing Uber because it discriminates against disabled people. 🤔Points to Reflect: when we surrender ourselves to the tech giants artificial intelligence and robots such problems are bound to occur. Even Amazon is accused of having computer system that if worker take little bit long time in bathroom break then his salaries cut. (अमरीका में यदि ग्राहक टैक्सी में चढ़ने में दो मिनट से ज़्यादा समय लेता है तो टैक्सी कंपनी उस पर ज़्यादा फ़ीस लगाती है। विकलांग प्रवासियों के लिए ये एक प्रकार से भेदभाव और शोषण है।)
  • – Ethics/Social Media: IIT ENGINEER from Telangana has been detained by the Mumbai Police for allegedly threatening to rape Virat Kohli’s infant daughter following the cricket team’s loss to Pakistan in the ongoing T20 World Cup 2021. He had created a fake id @Criccrazyygirl to send the tweet. 🤔Points to Reflect: 1) Innocent memes and jokes against celebrities is fine but Obscene and threatening messages are illegal. parents, teachers, PUBG & Mirzapur. 2) Kohli has done right thing by standing up against the cyber bullying, otherwise such bullies never stop and feel for that motivated to write even more obscene things. 3) social media intermediaries (Twitter,FB) need to fine-tune their algorithms to combat cyberbullying. ४) did person lose lakhs of rupees in fantasy sports gambling apps to become so outraged? साइबर दादागिरी- पाकिस्तान के सामने क्रिकेट मैच में हार के बाद इस क्रिकेटर विराट कोहली की बेटी पर बलात्कार की धमकी देने वाले IIT इंजीनियर को पुलिस ने पकड़ा। – निर्दोष क़िस्म के जोक्स, मिम से बनाना ठीक बात है लेकिन धमकियाँ देना ग़लत। १) कोहली ने पुलिस में शिकायत कर सही क़दम उठाया बड़ा साइबर bullies की हिम्मत और बढ़ जाती है २) ट्विटर फ़ेसबुक वग़ैरह ने भी ऐसी आपत्तिजनक चीज़ों को सतर्कता से हटाने की ज़रूरत है। ३) क्रिकेट हार जीत सामान्य हे-लोग नाराज़ होते हैं, लेकिन मारने और बलात्कार की धमकी नहीं देते तो क्या फैंटेसी क्रिकेट एप्स के नाम पर जो जुआ/सट्टा लगाया जाता है – क्या इस व्यक्ति ने उसमें लाखों रुपये गंवा दिए थे इसलिए इतना ग़ुस्से मे आ गया कि मारने और बलात्कार की धमकी देने लगा है?
  • – Ethics: Civil Service Values & Compassion for the weaker section & need for science: MINIMUM wage paid to brick kiln workers in Gujarat was Rs. 293 for 1100 bricks per day. Workers went to the labour department seeking reprieve. Mahatma Gandhi Labour Institute conducted a scientific study to find out that in 8 hours, a single worker can mould only 490 bricks! But government didn’t change the number. Workers went to High Court. After 13 years legal-administrative battle, the amount changed to Rs. 293 for 490 bricks. 🤔Points to Reflect: 😥 1) there is dire need for the civil servants to have compassion for the weaker section 😥 2) dire need for a civil servants to have scientific outlook towards economic problems. 😥 3) When civil servants have habit of dodging the responsibility by not taking action → ⬆️ litigation in courts → more scope /danger of judicial overreach. (प्रशासनिक सेवाओं में कमज़ोर वर्ग के प्रति संवेदनशीलता की कमी. गुजरात में ईट की भट्ठी में काम करने वाले मज़दूरों का न्यूनतम वेतन कुछ ऐसे तय हुआ कि प्रतिदिन ११०० ईट बनाने पर 300 रुपये मिले, हालाँकि वैज्ञानिक परीक्षणों से पाया गया कि एक मज़दूर दिन में आठ घंटे काम करने पर भी 500 ईंट मुश्किल से बना सकता है। जब मज़दूरोने इसकी शिकायत की तो भी सरकार ने नियमों में बदलाव नहीं किया, अंत मेन हाईकोर्ट से न्याय लेते लेते 13 साल बीत गए। सोचने के विषय की सरकारी अफ़सरों में संवेदनशीलता की कमी ज़िम्मेदारियों से भागने के लिए निर्णय न लेना जिसके चलते पीड़ित व्यक्ति अदालतों में जाए→ अदालतों का कार्य बोझ बढ़ता है →और न्यायिक अतिक्रमण का जोखिम भी बढ़ता है।
  • – Ethics: work life balance- “antiwork” culture/ walking out of their jobs in 1st world nations. A record 40 lakh people resigned in August 2021 due to low pay, unrealistic deadlines, and bad bosses. They classify themselves as as “not working” and “not looking for work. 🤔 in USA and EU – the social security net /unemployment allowance are high so persons can afford to do so. The other spectrum- 11 lakh candidates applied for 10,000 Police Constable jobs in Gujarat meant for class12 passout. (प्रथम विश्व में लगभग 40 लाख लोगों ने स्वयं ही इस्तीफ़ा दे दिया है कि हमें कम तनख़्वाह और बदमाश बॉस के चलते नौकरी यही नहीं करनी है वे ऐसा कर सकते हैं क्योंकि प्रथम विश्व में सामाजिक सुरक्षा /बेरोज़गारी भत्ता प्रणाली सुविकसित है। जबकि गुजरात में दस हज़ार पुलिस कांस्टेबल की नौकरी के लिए 11 लाख लोगों ने आवेदन पत्र लगाए हैं)
  • – Ethics/Cyber-stalking: Dy collector in Gujarat arrested for ‘harassing and stalking’ woman for 1.5 years, he was sending the indecent photos of the woman to her husband, minor-son, father-in-law to force the woman to continue relationships with him. 🤔Points to Reflect: 1) UPSC/GPSC Selection is no certificate for ethics and good character. 2) during the training, officers are also taught about legal provisions against sexual harassment, gender sensitisation etc. But, such training is also no remedy for person whose ethical character is weak. 3) Role of parents: His own parents had advised him to stop chasing this woman who is now married to another man but he was not listening. 4) when woman does not take a stand against the stocking and harassment it improves the morale of the stalker. Furthermore, having a government job also makes him arrogant. Thus he reached to extreme stage of even sending photos to minor son. 5) glorification and “normalisation” of stalking and harassment in movies like Kabir Singh. एक डिप्टी कलेक्टर जो काफ़ी समय से महिला को परेशान कर रहा था और उसकी आपत्तिजनक तस्वीरें महिला के पति और नाबालिग बेटे को भी भेज रहा था। है यानी कि सरकारी परीक्षा पास करना कोई चरित्र का प्रमाण पत्र नहीं है। इन सब अफ़सरों को महिला यौन उत्पीड़न के ख़िलाफ़ तालीम भी दी जाती है लेकिन उसका चरित्र ही ठीक न हो वो तालीम से ठीक नहीं हो सकता। जब महिलाएँ इस प्रकार की उत्पीड़न को सहन करती है तो आरोपी के हौसले और बुलंद हो जाते हैं यहाँ तक कि उसकी नाबालिग बेटे तक को वो तसवीरें भेजने लगा। कबीर सिंह जैसे ही चलचित्रों में महिला उत्पीड़न का महिमामंडन – बाबूशोनो के दिमाग़ को भ्रष्ट और हौसले को बुलंद कर रहा है
  • – Ethics/Bigamy: IAS Gaurav Dahiya was suspended by Gujarat government in 2019 because he is accused of bigamy (marrying second woman without divorcing first wife & then dumping her after she gave birth to a girl child. Separately, some newspapers also allege him of coercing/luring junior staff woman to have relationship with him. 2021: he has written to the chief secretary (IAS) please take me back into service because 1) I’ve done MBBS & MD from AIIMS 2) I had good experience of working during the pandemic of swine flu. So taken back to the job I will be able to help the administration during this Corona pandemic. 3) even on suspension I am getting 50% salary without doing any work! so better to take me back so I can do work which will be a better use of taxpayers money! Question: what decision will you take the Chief secretary? (एक आइएस अफ़सर को सस्पेंड किया गया क्योंकि उसने पहली पत्नी को डिवोर्स दिए बिना दूसरी शादी की थी और दूसरी पत्नी को भी छोड़ दिया जब उसकी बेटी पैदा हुई। ये सस्पेंडेड अफ़सर ने मुख्य सचिव को पत्र लिखा है कि मैं मैंने डॉक्टर की पढ़ाई की है और स्वाइन फ्लू में आपदा प्रबंधन का अनुभव भी हे इसलिए मुझे अब वापस कोरोना महामारी की लड़ाई में नौकरी पर ले लीजिए, क्योंकि मैं घर पे बैठा हूँ फिर भी सरकारी नियमों के हिसाब से मुझे तनख्वा तो मिल ही रही है तो क्यों न मुझे वापस ले लिया जाए ताकि मैं देश सेवा कर सकु! )
  • – Banaras Hindu University (BHU) was founded by Pt. Madan Mohan Malaviya, Annie Besant and others in 1916. 2021: Urdu dept published a on Facebook with the photograph of poet Iqbal’s photo to celebrate Urdu Day. A student union started protest, “Why doesn’t this poster contain photo of BHU founder Pandit Madan Mohan Malaviya??” Strict action must be taken against the Professor who is the head of Urdu department, else we will start student hartal and will not let the academic work progress. As Vice chancellor how will you address this complaint? (बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी ने उर्दू दिवस के दौरान फ़ेसबुक पर उर्दू डिपार्टमेंट ने ऐसा पोस्ट डाला जिसमें शायर इक़बाल की तस्वीर तो थी लेकिन यूनिवर्सिटी के संस्थापक पंडित मदन मोहन मालवीय की तस्वीर नहीं थी। इस पर विद्यार्थी संगठन और उर्दू विभाग के प्रोफ़ेसर के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की माँग कर रहे हैं तो आप उप कुलपति के रूप में क्या करेंगे?)
  • – Ethics: fratricide and suicide in CRPF: Home Ministry ordered platoons to organise weekly ‘chaupals: “group sharing exercise’- global studies have shown that people think of killing themselves when they find themselves unable to share their thoughts with others. “If they get a chance to share or discuss their feelings or their current state of mind, there is a possibility that such thoughts can be controlled. But, male soldiers often do not share their worries even with their comrades because they are expected to be strong, and keep their domestic problems, illness, and financial problems bottled up within. → stress, depression, suicide”. So, Once or twice a week, 18-20 personnel will sit in chairs in a circle outdoors, perhaps under a tree.All of whom will be in civilian clothes without mobile phones. “It must be ensured that no one laughs at or makes fun of anyone else; rather every person is encouraged to speak freely, (सैनिकों से उम्मीद की जाती है कि वे हमेशा शौर्य और मज़बूत मनोबल दिखाए। अपनी तक़लीफ और समस्याओं को दूसरों के साथ साझा न करें। लेकिन इसके चलते CRPF में आत्महत्या के मामले बढ़ रहे हैं तो गृह मंत्रालय ने आदेश दिया है कि हर हफ़्ते अफ़सर और जवानों की चौपाल बिठायी जाए जहाँ पर वे गणवेश नहीं सामान्य कपड़ों में होंगे मोबाइल फ़ोन का प्रयोग नहीं करेंगे। और काम के अलावा वाली अपनी निजी समस्याओं पर चर्चा करेंगे, और किसी की बात पर किसी ने भी हसना नहीं होगा। और विविध वैश्विक संशोधन से पाया गया है कि इस प्रकार की चर्चा से व्यक्ति का तनाव कम होता है और आत्महत्या की संभावना कम होती है)
Indian History Freedom Struggle Pratik Nayak

One Comment on “Ethics integrity Aptitude related case studies from Nov-Week2 for UPSC general studies mains paper 4 (GSM4) – Scheme Awareness, Work life Balance, Cyberbullying”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *